img

मुँहासे का इलाज

अवलोकन

आम तौर पर मुहांसे को एक गंभीर बीमारी के रूप मेंं नहीं लिया जाता है क्योंकि यह उम्र के एक चरण मेंं होने के लिए बाध्य है जिसके कई सारे कारण हो सकते हैं। मुंहासे त्वचा की एक उभरी हुई सतह होती है जो समय के साथ खत्म हो जाती है। लेकिन जब यह मुंहासे बढ़ते जाते है और लंबे समय तक हमारे शरीर की त्वचा पर रहते है तो हम इसे एक बीमारी के रूप मेंं महसूस करते हैं। यह शरीर के विभिन्न हिस्सों की त्वचा जैसे चेहरे, पीठ, छाती पर हो सकते है।

ज्यादातर मुंहासे चेहरे पर उभरते है, जिसका कारण होता है त्वचा की सीबेशियस ग्रंथियों से निकलने वाले स्राव का बाहर निकलने का रास्ता अवरुद्ध होना l जिसके लिए त्वचा में अधिक मात्रा में तेल और मृत त्वचा जैसे कारक जिम्मेदार होते हैं जो रोम छिद्रों को बंद कर देते हैं। यह उम्र के उस चरण से शुरू होता है जब हम वयस्क होते हैं और यह स्थिति लंबे समय तक जारी रह सकती है। मुँहासे, जो आमतौर पर तेरह साल की उम्र से शुरू होते है, पच्चीस, छब्बीस साल या उससे अधिक उम्र तक हो सकते है। पुरुषों और महिलाओं दोनों को इस त्वचा रोग का सामना करना पड़ सकता है l

एक परेशानी के रूप में मुँहासे

यह बीमारी आज एक आम बीमारी बन गई है, जो हर दस में से आठ लोगों में पाई जाती है, जिसके कारण लोग मानसिक रूप से अधिक प्रभावित होते हैं और विभिन्न प्रकार के उपचार अपनाते हैं। लेकिन अधिकांश उपचार बीमारी को ठीक करने के बजाय हमारे शरीर को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं। किसी भी उपचार को लेने से पहले, हमें अपनी बीमारी के बारे में अच्छी तरह से पता होना चाहिए ताकि इसका इलाज आसानी से हो सके l ये मुहांसे तब परेशानी बन जाते हैं जब ये बढ़ते जाते हैं और इनका उचित इलाज न मिल पाने के कारण एक चिंताजनक बीमारी बन जाते हैं l

अनुसंधान

जैन के गोमूत्र चिकित्सा क्लिनिक का उद्देश्य प्राचीन आयुर्वेदिक ज्ञान को आधुनिक तकनीक के साथ एकीकृत करके एक सुखी और स्वस्थ जीवन बनाना है। हमारी चिकित्सा का अर्थ है आयुर्वेद सहित गोमूत्र व्यक्ति के तीन दोषों पर काम करता है- वात, पित्त और कफ। ये त्रि-ऊर्जा हमारे स्वास्थ्य को बनाए रखती हैं, इन दोषों में कोई भी असंतुलन, मानव स्वास्थ्य और बीमारी के लिए जिम्मेदार है। हमें यह कहते हुए खुशी हो रही है कि हमारे उपचार के तहत हमने इतने सारे सकारात्मक परिणाम देखे हैं। हमारे इलाज के बाद हजारों लोगों को कई बीमारियों से छुटकारा मिला।

हमारे मरीज न केवल अपनी बीमारी को खत्म करते हैं बल्कि हमेशा के लिए एक रोग मुक्त स्वस्थ जीवन जीते हैं। यही कारण है कि लोग हमारी चिकित्सा की ओर ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। आयुर्वेदिक उपचारों में हमारे वर्षों के शोध ने हमें अपनी कार्यप्रणाली को आगे बढ़ाने में मदद की है। हम पूरी दुनिया में एक स्वस्थ और खुशहाल समाज का निर्माण करने के लिए अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य रखते हैं।

गोमूत्र चिकित्सा द्वारा प्रभावी उपचार

गोमूत्र चिकित्सीय दृष्टिकोण के अनुसार, कई जड़ी-बूटियां, शरीर के दोषों (वात, पित्त और कफ) को फिर से जीवंत करने का काम करती हैं, जो मुहांसों का कारण बनते हैं अगर वे अनुपातहीन हैं। कुछ आयुर्वेदिक दवाओं में, उनके उपचार के लिए कई लाभकारी तत्व होते हैं। यह शरीर के चयापचय को बढ़ाता है।

डर्मोसोल + लिक्विड ओरल

डेर्मोकर + कैप्सूल

ओमनी तेल

पुरोडर्म+ मलहम

प्रमुख जड़ी-बूटियाँ जो उपचार को अधिक प्रभावी बनाती हैं

नीम

नीम त्वचा को मटियामेट करता है, तैलीय और मुंहासे वाली त्वचा से कीटाणु और अतिरिक्त सीबम दोनों को हटाता है। नीम के पत्तों में बायो फ्लेवोनॉयड्स जैसे एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं, जो मुहांसों को कम करने और त्वचा की बनावट में सुधार करने में मदद करते हैं तथा त्वचा को होने वाले नुकसान को भी ठीक करते हैं।

बावची

यह त्वचा मलिनकिरण, हाइपर-रंजकता और ल्यूकोडर्मा के इलाज के लिए एक शक्तिशाली जड़ी बूटी है । जीवाणुरोधी, एंटीवायरल और एंटीफंगल गुणों के साथ, बावची मुंहासे और फुंसियों का इलाज करता है और व्यक्तिगत रूप से रंजकता को सामान्य करने में भी मदद करता है।

खदिर

खदिर का एक महत्वपूर्ण सूत्रण खादिर अरिष्टम है। यह सभी प्रकार की पुरानी त्वचा रोगों के लिए फायदेमंद है, जिसमें मुहांसे भी शामिल है और एक महान रक्त शोधक के रूप में माना जाता है और यह मुंहासे और दाने मिटाने में मदद करता है।

करंज

करंज जड़ी बूटी पर आधारित फार्मास्युटिकल तैयारियां मुँहासे, दाद, रोसैस और ल्यूकोडर्मा (त्वचा रंजकता का आंशिक या कुल नुकसान, अक्सर विटिलिगो के रूप में भी जाना जाता है) में त्वचा रोगों सहित उपचार के लिए उपयोग किया जाता है।

चक्रमर्दा

चक्रामर्द पौधा मुहांसे और अन्य त्वचा रोगों के उपचार में उपयोगी है। यह ग्लाइकोसाइड में समृद्ध है और एलो-एमोडिन युक्त भी, जो त्वचा रोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

चन्दन

चंदन पाउडर में रोगाणुरोधी और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जिससे यह मुहांसे के इलाज के लिए एक हल्का और आसान तरीका है।

शुद्ध गंधक

शुद्ध गंधक रसायन एक महान जीवाणुरोधी, एंटीवायरल और रोगाणुरोधी आयुर्वेदिक दवा है। इसमें अमीनो एसिड होता है जो एंटीबॉडी, कोशिकाओं, प्रोटीन और ऊतकों के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह रक्त शोधन और त्वचा रोगों के इलाज में मदद करता है।

तुलसी

इसके गुणों के कारण, तुलसी त्वचा की कई समस्याओं का इलाज कर सकती है। तुलसी के एंटी-बैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण मुहांसे और ब्रेकआउट को दूर रखने में मदद करता है। यह जड़ी बूटी एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध है जो त्वचा को फिर से जीवंत करने की क्षमता देती है।

कैशोर गुग्गुल

किशोर गुग्गुल एक रक्त शोधक है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गतिविधि होती है जो मुंहासों, झाइयों, एक्जिमा और पिंपल्स के इलाज में मदद करता है। अधिकांश व्यक्तियों में किशोर गुग्गल पित्त के बढ़ने की संभावना को कम करता है। यह मुंहासों, त्वचा की सूजन और दर्द को कम करने के लिए भी फायदेमंद है।

अनंतमूल

सभी प्रकार के त्वचा विकारों के लिए जैसे कि मुंहासे और अन्य त्वचा रोग, इसका बाहरी और आंतरिक दोनों तरह से उपयोग किया जा सकता है। अपनी रोगाणुरोधी गतिविधि के कारण, अनंतमूल जड़ बैक्टीरिया के संक्रमण से छुटकारा पाने में मदद करता है। अनंतमूल क्वाथ (काढ़े) के साथ-साथ इसके पाउडर की रक्त शुद्ध करने वाली संपत्ति का उपयोग त्वचा की विभिन्न स्थितियों के उपचार के लिए किया जा सकता है।

मीठा इन्द्रजौ

इसका उपयोग कृमिनाशक (परजीवी कृमियों को नष्ट करने के लिए) के रूप में किया जाता है जो कि मुंहासे जैसी त्वचा की समस्याओं के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें एक कसैला, एक तरल-आधारित (आमतौर पर पानी) सूत्र है जिसका उपयोग त्वचा की सतह से जलन को दूर करने के लिए किया जाता है और यहां तक कि त्वचा की टोन और आमतौर पर तैलीय और मुँहासे-प्रवण त्वचा के लिए भी उपयोग किया जाता है।

कपूर

त्वचा संबंधी समस्याओं जैसे मुहांसों के लिए कपूर एक बेहतरीन उपचार हो सकता है। इसके एंटी इन्फ्लेमेटरी और शांत प्रभाव के कारण, संक्रमित हिस्से पर पेस्ट लगाने से जलन और खुजली की उत्तेजना कम हो जाती है । इसमें एंटी बैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं जो त्वचा को कीटाणुरहित करने में सहायक होते हैं।

नारियल तेल

नारियल का तेल लॉरिक एसिड में उच्च होता है, जो मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है। त्वचा पर नारियल का तेल लगाने से मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया मर सकते हैं और नमी में वृद्धि होती है जिससे मुंहासों का दाग भी कम हो सकता है।

अजवाइन के फूल

यह फाइबर, खनिज, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध हैं। अजवाइन बीज में थाइमोल नामक एक घटक एक मजबूत कवकनाशी और कीटाणुनाशक के रूप में कार्य करता है जो मुंहासों के उपचार में सहायक हो सकता है।

गोमय रस

गोमूत्र में एंटीमाइक्रोबियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो पिंपल्स और मुंहासों को रोकने के लिए उपयोग किया जाता है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट है , जो कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करता है। और ये घटक त्वचा की समस्याओं जैसे मुहांसों को रोक सकते हैं।

तारपीन का तेल

जब त्वचा पर इस्तेमाल किया जाता है तो इस तेल में गर्मी और लालिमा हो सकती है जो नीचे के ऊतकों में दर्द को दूर करने में मदद कर सकती है।

तिल का तेल

अपने एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी और जीवाणुरोधी गुणों के साथ, तिल का तेल त्वचा को कई तरीकों से मदद कर सकता है। यह विशेष रूप से मुँहासे-प्रवण त्वचा और मुंहासों के निशान के लिए फायदेमंद है।

गोजला

हम अपने गोमूत्र चिकित्सा में गोजला का उपयोग करते हैं, मूल रूप से इसका मतलब है कि हमारी दवा में मुख्य घटक गोमूत्र अर्क है। यह अर्क गाय की देसी नस्लों के मूत्र से बना है। गोजला के अपने फायदे हैं क्योंकि यह किसी भी प्रकार के संदूषण की संभावना से परे है। इसकी गुणवत्ता उच्च है एवं प्रचुर मात्रा में है। जब गोजला आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिलाया जाता है तो यह किसी भी बीमारी के इलाज के लिए अधिक प्रभावी हो जाता है और विशेष बीमारियों में अनुकूल परिणाम देता है। इस अर्क का अत्यधिक परीक्षण किया गया है और इसलिए यह अधिक विश्वसनीय और लाभदायक भी है।

जीवन की गुणवत्ता

गोमूत्र के उपचार से उपयुक्त स्वास्थ्य मिलता है और एक क्रम में शरीर के दोषों में संतुलन बनाए रखता है। इन दिनों हमारे उपचार के परिणामस्वरूप लोग अपने स्वास्थ्य को लगातार सुधार रहे हैं। यह उनके रोजमर्रा के जीवन-गुणवत्ता में सुधार करता है। गोमूत्र के साथ-साथ आयुर्वेदिक दवा का उपचार विभिन्न उपचारों के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए पूरक थेरेपी के रूप में कार्य कर सकते हैं जो भारी खुराक, बौद्धिक तनाव, विकिरण और कीमोथेरपी के उपयोग से आते हैं। हम लोगों का मार्गदर्शन करते हैं, एक सुखी और तनाव मुक्त जीवन जीने का एक तरीका सिखाते है, यदि उन्हें कोई असाध्य बीमारी है तो। हमारे उपाय करने के बाद हजारों मनुष्य एक संतुलित जीवन जीते हैं और यह हमारे लिए एक बड़ी उपलब्धि है कि हम उन्हें एक जीवनशैली दें जो वे अपने  सपने में देखते हैं।

जटिलता निवारण

आयुर्वेद में, गोमूत्र की एक विशेष स्थिति है जिसे मुंहासों जैसे रोगों के लिए भी उपयोगी माना जाता है। हमारे वर्षों के काम से साबित होता है कि हमारी हर्बल दवाओं के साथ, मुहांसे की कुछ जटिलताएं लगभग गायब हो जाती हैं। पीड़ित हमें बताते हैं कि वे अपनी त्वचा और प्रभावित क्षेत्र में बड़े बदलाव को देखते हैं, शरीर में हार्मोनल और रासायनिक परिवर्तनों को नियंत्रित और संतुलित होता हैं, बढ़ते मुहांसों और उनके निशान की गति धीमी होती हैं, दर्द और खुजली में राहत होती हैं, रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार होता  हैं जो अन्य मुहांसे जटिलताओं के लिए अनुकूल रूप में कार्य करता है।

मुहांसों के कारण 

मुंहासों के कई कारण हो सकते हैं जो एक बीमारी का रूप ले लेते हैं। इन कारणों से शरीर की त्वचा पर अलग अलग प्रभाव पड़ता है -

  • पर्यावरणीय प्रभाव

पर्यावरणीय प्रभावों के अंतर्गत धूल मिट्टी, प्रदूषण, तापमान, मौसम में बदलाव व आर्द्रता को शामिल किया जाता है l इन कारणों से हमारे शरीर में पसीने के साथ बैक्टीरिया उत्पन्न होने लगते हैं जो मुहांसों का कारण बनते हैं l जब हमारी त्वचा के भीतर स्थित तेल ग्रंथियों से अत्यधिक मात्रा में तेल निकलता है तो चेहरा चिपचिपा होने लगता है l जिसके कारण वातावरण में उपस्थित धूल मिट्टी के कण, गंदगी आदि त्वचा पर चिपकने लगती है l यह कण इन ग्रंथियों के अंदर जाकर त्वचा में संक्रमण फैलाते है जिससे ग्रंथियां ब्लॉक होने लगती है और तेल बाहर नहीं निकल पाता, इससे मुंहासे उगने लगते हैं l

  • हार्मोन एस्ट्रोजनिक और प्रोजेस्टेरोन की कमी और वृद्धि

शरीर में हार्मोंस मेंं होने वाले बदलाव मुहांसों की सबसे बड़ी वजह होती है l इन हार्मोनल बदलाव की वजह से शरीर की तेल ग्रंथियां अधिक सक्रिय हो जाती है जिससे त्वचा मेंं तेल की मात्रा और अधिक हो जाती है और मुहांसों की दिक्कत होने लगती है l किशोरावस्था के समय होने वाले हार्मोनल बदलाव मुहांसों का कारण बनते हैं l लड़कों मेंं टेस्टोस्टेरोन और लड़कियों मेंं एंड्रोजन तेजी से बनते हैं जिसकी अधिकता मुहांसों की समस्या पैदा करती है l

  • निरपेक्ष पाचन तंत्र व तेलीय पदार्थों का अत्याधिक सेवन

भोजन की अनियमितता, खाने पीने की गलत आदतें व तैलीय पदार्थों का अधिक सेवन पेट से जुड़ी ये सभी समस्याएं मुहांसों की बीमारी का कारण बनते हैं l दैनिक दिनचर्या और कामकाज की अधिकता के कारण हमारे भोजन की अनियमितता हमारे पाचन तंत्र को असंतुलित करती हैं जिसकी वजह से कई तरह की समस्याएं होने लगती है l पाचन तंत्र के बिगड़ने से उत्पन्न विषाक्त पदार्थ मुहांसों की बीमारी पैदा करते हैं l इसी के साथ ज्यादा तेल मसालेदार खाना हमारी त्वचा की तैलीय ग्रंथियों मेंं अत्यधिक तेल जमा कर देते हैं जिससे त्वचा चिपचिपी और मुहांसों से भर जाती है l शरीर में पानी की कमी की वजह से ग्रंथियों से निकलने वाले पसीने के रूप में तेल बाहर नहीं आ पाता है जिस कारण हमें मुहांसों की समस्या का सामना करना पड़ता है l

  • अत्यधिक तनाव की स्थिति

अत्यधिक तनाव भी मुहांसों की समस्या को पैदा करने मेंं अपनी अहम भूमिका निभाता है l जब इंसान अधिक तनाव में होता है तो उनके शरीर से कार्टिसोल हार्मोन का स्राव होने लगता है l ये कार्टिसोल हार्मोन त्वचा पर सीबम को ओर भी ज्यादा उत्पादित करने मेंं मददगार होते हैं जिसके कारण त्वचा पर मुहांसेहोने लगते हैं l मनुष्य की जिंदगी में अत्यधिक तनाव कई कारणों से होता है जैसे कामकाज की अधिकता, पढ़ाई का तनाव, घरेलु कारण इत्यादि l 

  • सौंदर्य प्रसाधनों का अत्यधिक उपयोग

जब हम अपनी त्वचा पर अत्यधिक मात्रा में सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग करते हैं तो ये भी हमारे मुहांसों की बीमारी का कारण बनते हैं l त्वचा पर लगाई जाने वाली क्रीम, लोशन, पाउडर, फाउंडेशन इत्यादि के कारण शरीर की तेल ग्रंथियों से तेल के बाहर रिसने का मार्ग अवरुद्ध होने लगता है जिस वजह से त्वचा में चिपचिपाहट आने लगती है और तेल त्वचा की भीतर की सतह पर जमा होने लगता है जिससे त्वचा संक्रमित होने लगती है और मुंहासे बढ़ने लगते हैं l यदि हमारी त्वचा तैलीय है तो ये समस्या और भी ज्यादा बढ़ जाती है l 

  • संक्रमण 

कई बार हम अपनी स्वयं की गलतियों की वजह से भी मुहांसों जैसी बीमारी को उत्पन्न कर देते हैं l मुहांसे संक्रामक होते हैं जिन्हें छेड़ने पर ये और अधिक मुहांसों मेंं तब्दील होने लगते हैं l हमारे कृत्यों की वजह से त्वचा में संक्रमण फैलने लगता है l ये संक्रमण कई बाहरी कारकों द्वारा भी फैलता है जिसमें एलर्जी, दवाइयों का दुष्प्रभाव, वातावरण आदि भी शामिल होते हैं l ऐसी कई गलतियां हम जाने अनजाने में कर बैठते हैं जिससे ये समस्या हमारे लिए परेशानी का सबब बन जाती है जैसे:

  • त्वचा को ठीक तरह से साफ़ न करना 
  • बार बार त्वचा पर गंदे हाथ लगाना 
  • मुंहासे या फुंसी को अपने नाखूनों से कुरेदना 
  • धूप में अत्यधिक घूमना-फिरना 
  • एक्सपायर हुए कॉस्मेटिक का लंबे समय तक उपयोग करते रहना 
  • दवाइयों का ठीक तरीके से सेवन न करना 

 

मुँहासे की रोकथाम

मुंहासे बिल्कुल भी बड़ी समस्या नहीं है। थोड़ी सी देखभाल और जागरूकता से हर कोई अपनी त्वचा को इस समस्या से बचा सकता है। कुछ सुझाव हैं जो मुँहासे को रोकने में मदद कर सकते हैं, वे हैं:

  • पीड़ितों को अपनी त्वचा की स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए।
  • खूब पानी पिएं सही तरीके से
  • तले, मसालेदार और अस्वास्थ्यकर फास्ट फूड से बचें
  • धूप, गंदगी और प्रदूषण के अत्यधिक संपर्क से बचें
  • अपने सौंदर्य प्रसाधन उत्पादों का उपयोग कम से कम करने का प्रयास करें
  • तनावमुक्त और तनावमुक्त जीवन जिएं
  • रोजाना 7-8 घंटे की नींद लें
  • अपने मुंहासों को छुएं या निचोड़ें नहीं
  • अपने पाचन तंत्र को रखें स्वस्थ

मुहांसे के लक्षण

मुहांसे के कई प्रकार के लक्षण हैं जो अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग उम्र के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं: 

  • छोटे लाल दानों के रूप मेंं

जब व्यक्ति को किसी चीज से त्वचा संबंधी एलर्जी हो जाती है और शरीर में उसकी प्रतिक्रिया होने लगती है तो उनके चेहरे व पूरे शरीर पर छोटे छोटे लाल दाने उभर कर आने लगते हैं l ये दाने कुछ कम समय के लिए ही होते हैं जो सामान्य उपचार के बाद ठीक भी हो जाते हैं  पर जब ये दाने लंबे समय तक भी ठीक नहीं होते हैं तो ये त्वचा की बीमारी बन जाती है जिसका इलाज कराया जाना जरूरी हो जाता है l इन दानों पर लगातार खुजली होने लगती है तथा खुजाते समय नाखून लगने से इनमेंं से पानी निकलने लगता है जिससे त्वचा का दूसरा भाग भी संक्रमित हो जाता है और ये मुहांसे जैसी गंभीर समस्या में तब्दील हो जाती है l

  • मवाद से भरे मुहांसे

त्वचा के रोम छिद्रों मेंं सीबम फंसकर वही इकट्ठा होने लगता है तब इनसे मुहांसे पैदा होने लगते हैं और इनमेंं सफेद तरल पदार्थ के रूप में मवाद भरने लगता है l इसकी वजह से मुहांसों मेंं सूजन आने लगती है I  मुहांसों पर हाथ लगाने या खुरचन से ये मवाद संक्रमित हो कर त्वचा के दूसरे भागों में तेजी से फैलना शुरू हो जाते हैं l 

  • बड़े दानों के रूप में 

कई बार शरीर पर लाल लाल बड़े चकत्ते हो जाते हैं जो किसी कीड़े के काटने, दवाइयों की प्रतिक्रिया की वजह से हो सकते हैं l ये लाल दाने चेचक की वजह से भी होते हैं l ऐसे लाल दाने दर्द से भरे होते हैं जो लंबे समय मेंं ठीक होते हैं l कभी कभी ये चेचक बिगड़ भी जाता है जिसका उपचार किया जाना आवश्यक हो जाता है l

 

मुहांसों के प्रकार

मुंहासे अपने आकार में अलग अलग रूप लिए त्वचा पर उभरे हुए होते हैं l प्रत्येक इंसान की त्वचा पृथक-पृथक होती है जिन पर उनके प्राकृतिक, आंतरिक व बाहरी कारकों का प्रभाव पृथक-पृथक पड़ता है जिस वजह से मुंहासे के कई प्रकार देखने को मिलते हैं l आमतौर पर ये मुहांसे पाँच प्रकार के होते हैं: 

  • ब्लैकहेड्स

ये एक प्रकार की छोटी छोटी कील होती है l हमारी त्वचा के रोम छिद्रों मेंं से जब सीबम को निकलने की जगह नहीं मिलती है तो वे त्वचा की भीतरी सतह पर ही बैठने लग जाते हैं l बैक्टीरीयल इन्फेक्शन की वजह से त्वचा मेंं काले काले छेद और धब्बे जैसे दिखने लग जाते हैं l इस तरह के मुहांसों का मुहँ ऊपर से खुला होता है जिस वजह से ये गहरा काला रंग लिए हुए होते हैं जिसे ब्लैकहेड्स कहा जाता है I  ये ब्लैकहेड्स ज्यादातर नाक के आसपास उभार लिए हुए होते हैं पर गर्दन, पीठ, छाती पर भी देखने को मिलते हैं l

  • व्हाइटहेड्स

ये मुँहासे ब्लैकहेड्स से बिल्कुल विपरीत होते हैं जिसे सफेद फुंसी या सफेद मुंहासे भी कहा जाता है l ये त्वचा पर सफेद उभार लिए हुए होते हैं जिसमें मवाद भरा हुआ होता है l ये मवाद रोम छिद्रों के बंद होने के कारण वहां उत्पन्न बैक्टीरिया से फैलने वाले संक्रमण के परिणामस्वरूप त्वचा पर उजागर होने लगते हैं l इनके कारण प्रभावित त्वचा पर कभी कभी दर्द भी महसूस होने लगता है l

  • पेपुल्स

मुहांसों का एक रूप जिनका रंग प्रायः भूरा, हल्का गुलाबी व हल्का नीला और गहरा लाल भी होता है l ये मुहांसे एक ऐसी दानेदार संरचना होती है जो छोटे से लेकर बड़े बड़े रूप में भी हो सकती है l ये ठोस परत के रूप में त्वचा पर उग जाते हैं l इनमें खुजली भी ज्यादा होती है तथा ये एक सेंटीमीटर तक कि ठोस ऊंचाई लिए होते हैं l

  • नोड्युल

ये मुहांसे बताए गए मुहांसों से भिन्न होते हैं क्योंकि ये हमारी त्वचा के ऊपरी सतह पर न होकर त्वचा के अंदर की तरफ उभरते है l इनका आकर दूसरे मुहांसों की तुलना में अधिक बड़ा होता है l ये प्रायः ठोस व दर्द भरे होते हैं l इन मुंहासों मेंं मवाद नहीं होता है l

  • पस्टूल व सिस्ट 

पस्टूल एक फुंसी होती है जिसमें पस भरा हुआ होता है l पस भरे इस तरह के कई सारे दाने त्वचा की ऊपरी सतह पर एक साथ दिखाई पड़ते हैं l इन फुंसियों का तल लाल रंग का होता है तथा इनमें पस फुंसी के ऊपर की तरफ भरा हुआ होता है l इन्हें हाथ लगाने पर किसी तीखी चीज के चुभने जैसा दर्द महसूस होता है l

सिस्ट भी त्वचा की ऊपरी सतह पर स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं l इनमें भी मवाद भरा होता है l इस तरह के मुहांसों से त्वचा पर गहरे निशान हो जाते हैं l आमतौर पर ये सिस्ट खतरनाक दर्द से भरे होते हैं l

मुंहासे की जटिलताएँ 

मुंहासे एक ऐसी समस्या है जो किसी को भी हो सकती है l ये मुहांसे जब बीमारी बन जाते हैं तो इंसान को कई तरह की जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है l जब ये साधारण सी बीमारी ठीक न हो पाने वाली एक बड़ी बीमारी बन जाती है तो पीड़ित को इसका इलाज करवाना जरूरी हो जाता है l कुछ जटिलताएँ इस बीमारी में ऐसी होती है जो व्यक्ति को व उसके जीवन को बुरी तरह से प्रभावित करती है l ये जटिलताएँ है – 

आत्म विश्वास मेंं कमी आना व तनाव में चले जाना l

दवाइयों का उपयोग करने से इनके साइड इफेक्ट्स होना l

त्वचा पर हमेंंशा के लिए गहरे दाग धब्बे छूट जाना l

हर समय असहनीय दर्द को झेलना l

सही उपचार न मिल पाने से स्थिति ओर भी ज्यादा बदतर हो जाना 

त्वचा पर कुछ दबाव सा महसूस करना l

असामयिक परेशानी होना 

खुजली और जलन होना 

मान्यताएं

क्या कह रहे हैं मरीज

"विभिन्न अध्ययन किए गए हैं जहां जैन गाय मूत्र चिकित्सा ने रोगियों में महत्वपूर्ण सुधार दिखाया है।"