img

मूत्र संबंधी विकार का इलाज

अवलोकन

शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को हटाने हेतु मूत्र पथ एक जल निकासी प्रणाली होती है जो मूत्र को हटाने तथा शरीर से बाहर निकालने का कार्य करती है I मूत्र पथ के अंतर्गत गुर्दे, मूत्रवाहिनी और मूत्राशय आदि शामिल होते है I मूत्र त्याग के लिए यह सभी एक साथ उचित क्रम में कार्य करते है जिससे शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स, रक्त की मात्रा, रक्तचाप और रक्त पीएच आदि विनियमित रहते है। कुछ परिस्थितियों व कारणों के परिणामस्वरूप जब मूत्र पथ के कार्य में बाधा आने लगती है अथवा गुर्दे, मूत्रवाहिनी और मूत्राशय प्रभावित होने लगते है तो यह मूत्र सम्बन्धी विकारों को उत्पन्न करती है I मूत्र सम्बन्धी विकारों व स्थितियों में व्यक्ति को कई तरह की समस्याएं शुरू होने लगती है जिसमें मूत्र पथ के संक्रमण, गुर्दे की पथरी, मूत्राशय अनियंत्रण और प्रोस्टेट की समस्याएं आदि शामिल हैं। यह यूरोलॉजिकल विकार अथवा मूत्र संबंधी रोग किसी भी उम्र के व्यक्ति को परेशान कर सकती है फिर चाहे वो महिला हो, पुरुष, बच्चे अथवा बुजुर्ग I 

कुछ मूत्र संबंधी स्थितियाँ कम समय तक ही चलती हैं, मगर कुछ विकार ऐसे है जो गंभीर स्थिति में लंबे समय तक किसी व्यक्ति के शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं I 

मूत्र प्रणाली को प्रभावित करने वाले यह विकार एक आनुवंशिक दोष अथवा अधिग्रहित किसी भी बीमारी से उत्पन्न हो सकते हैं जो किसी अन्य शारीरिक प्रणाली की बीमारी के लिए माध्यमिक हो सकती है। यह विकार कई जटिलताओं का कारण बन सकते हैं जिनका प्रारंभिक पहचान और उपचार करवाना अत्यंत महत्वपूर्ण है I

अनुसंधान

जैन के गोमूत्र चिकित्सा क्लिनिक का उद्देश्य प्राचीन आयुर्वेदिक ज्ञान को आधुनिक तकनीक के साथ एकीकृत करके एक सुखी और स्वस्थ जीवन बनाना है। हमारी चिकित्सा का अर्थ है आयुर्वेद सहित गोमूत्र व्यक्ति के तीन दोषों पर काम करता है- वात, पित्त और कफ। ये त्रि-ऊर्जा हमारे स्वास्थ्य को बनाए रखती हैं, इन दोषों में कोई भी असंतुलन, मानव स्वास्थ्य और बीमारी के लिए जिम्मेदार है। हमें यह कहते हुए खुशी हो रही है कि हमारे उपचार के तहत हमने इतने सारे सकारात्मक परिणाम देखे हैं। हमारे इलाज के बाद हजारों लोगों को कई बीमारियों से छुटकारा मिला।

हमारे मरीज न केवल अपनी बीमारी को खत्म करते हैं बल्कि हमेशा के लिए एक रोग मुक्त स्वस्थ जीवन जीते हैं। यही कारण है कि लोग हमारी चिकित्सा की ओर ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। आयुर्वेदिक उपचारों में हमारे वर्षों के शोध ने हमें अपनी कार्यप्रणाली को आगे बढ़ाने में मदद की है। हम पूरी दुनिया में एक स्वस्थ और खुशहाल समाज का निर्माण करने के लिए अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य रखते हैं।

गोमूत्र चिकित्सा द्वारा प्रभावी उपचार

गोमूत्र चिकित्सा दृष्टिकोण के अनुसार, कई जड़ी-बूटियां, शरीर के दोषों (वात, पित्त और कफ) को फिर से जीवंत करने का काम करती हैं, जो मूत्र संबंधी विकार का कारण बनते हैं अगर वे अनुपातहीन हैं। कुछ आयुर्वेदिक दवाओं में, उनके उपचार के लिए कई लाभकारी तत्व होते हैं। यह शरीर के चयापचय को बढ़ाता है।

जीवन की गुणवत्ता

गोमूत्र के उपचार से उपयुक्त स्वास्थ्य मिलता है और एक क्रम में शरीर के दोषों में संतुलन बनाए रखता है। इन दिनों हमारे उपचार के परिणामस्वरूप लोग अपने स्वास्थ्य को लगातार सुधार रहे हैं। यह उनके रोजमर्रा के जीवन-गुणवत्ता में सुधार करता है। गोमूत्र के साथ-साथ आयुर्वेदिक दवा का उपचार विभिन्न उपचारों के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए पूरक थेरेपी के रूप में कार्य कर सकते हैं जो भारी खुराक, बौद्धिक तनाव, विकिरण और कीमोथेरेपी के उपयोग से आते हैं। हम लोगों का मार्गदर्शन करते हैं, एक सुखी और तनाव मुक्त जीवन जीने का एक तरीका सिखाते है, यदि उन्हें कोई असाध्य बीमारी है तो। हमारे उपाय करने के बाद हजारों मनुष्य एक संतुलित जीवन जीते हैं और यह हमारे लिए एक बड़ी उपलब्धि है कि हम उन्हें एक जीवनशैली दें जो वे अपने  सपने में देखते हैं।

जटिलता निवारण

आयुर्वेद में, गोमूत्र का एक विशेष स्थान है जो मूत्र संबंधी विकार के लिए भी सहायक है। हमारे वर्षों के प्रतिबद्ध कार्य यह साबित करते हैं कि हमारी हर्बल दवाओं के साथ, मूत्र संबंधी विकार के कुछ लक्षण लगभग गायब हो जाते हैं। पीड़ित हमें बताते हैं कि वे मूत्र त्यागते समय दर्द, जलन, सूजन, मूत्र के साथ रक्त का स्त्राव, पेट के नीचे के हिस्से में दबाव की अनुभूति आदि में एक बड़ी राहत महसूस करते हैं, हार्मोनल और रासायनिक परिवर्तनों के प्रवाह में नियंत्रण और संतुलन में बड़ी राहत महसूस होती है, रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार होता है जो अन्य  मूत्र संबंधी विकार जटिलताओं के लिए अनुकूल रूप से काम करता है।

जीवन प्रत्याशा

यदि हम किसी व्यक्ति की अस्तित्व प्रत्याशा के बारे में बात कर रहे हैं तो गोमूत्र उपाय स्वयं में एक बड़ी आशा हैं। कोई भी बीमारी या तो छोटी या गंभीर स्थिति में होती है, जो मानव शरीर पर बुरा प्रभाव डालती है और कुछ वर्षों तक मौजूद रहती है, कभी-कभी जीवन भर के लिए। एक बार विकार की पहचान हो जाने के बाद, अस्तित्व प्रत्याशा कम होने लगती  है, लेकिन गोमूत्र चिकित्सा के साथ नहीं। हमारा ऐतिहासिक उपाय अब इस बीमारी से सबसे प्रभावी रूप से ही छुटकारा नहीं दिलाता है, बल्कि उस व्यक्ति की जीवनशैली-अवधि में भी वृद्धि करता है और उसके रक्त प्रवाह में कोई विष भी नहीं छोड़ता है और यही हमारा अंतिम उद्देश्य है।

दवा निर्भरता को कम करना

"सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामयाः, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद् दुःख भाग्भवेत्", जिसका अर्थ है सबको सुखी बनाना, बीमारी से छुटकारा दिलाना, सबको सत्य देखने देना, किसी को भी पीड़ा का अनुभव न होने देना। इस वाक्य के बाद, हम चाहते हैं कि हमारा समाज ऐसा ही हो। हमारी चिकित्सा विश्वसनीय उपचार प्रदान करके, जीवन प्रत्याशा में सुधार और प्रभावित आबादी में दवा की निर्भरता को कम करके इस लक्ष्य को प्राप्त करती है। आज की दुनिया में, हमारी चिकित्सा में अन्य उपलब्ध चिकित्सा विकल्पों की तुलना में अधिक फायदे और शून्य नुकसान हैं।

पुनरावृत्ति की संभावना को कम करना

चिकित्सा पद्धतियों की एक विस्तृत श्रृंखला की तुलना में, हम रोग के मूल कारण और उन कारकों पर ध्यान केंद्रित करते हैं जो बीमारी के पुनरावृत्ति की संभावना को बढ़ा सकते हैं, न कि केवल रोग के प्रबंधन पर। इस पद्धति का उपयोग करके, हमने पुनरावृत्ति दर को सफलतापूर्वक कम कर दिया है और लोगों के जीवन के लिए एक नई दिशा बताई है ताकि लोग भावनात्मक और शारीरिक रूप से बेहतर जीवन जी सकें।

मूत्र सम्बन्धी विकार के कारण

मूत्र सम्बन्धी विकार के लिए कई निम्नलिखित कारण जिम्मेदार हो सकते है -

  • मूत्र मार्ग में संक्रमण
  • मूत्राशय की कमजोर मांसपेशियाँ
  • पार्किंसन्स और मल्टीपल स्केलेरोसिस सहित कुछ रोग
  • मधुमेह की समस्या 
  • ओवरएक्टिव ब्लैडर
  • असुरक्षित यौन सम्बन्ध 
  • हार्मोन परिवर्तन
  • ख़राब जीवन शैली 
  • पारिवारिक इतिहास
  • जन्मजात असंगतियाँ 
  • रीढ़ की हड्डी में चोट


मूत्र विकार रोग से निवारण

मूत्र प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए व्यक्ति निम्नलिखित उपायों को अपनाकर मूत्र सम्बन्धी विकारों के जोखिम से बच सकता है -

  • पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन, शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालता है तथा मूत्र प्रणाली को रोग मुक्त बनाए रखने में मदद करता है I
  • व्यक्ति को ऐसे व्यायाम करने चाहिए जो श्रोणि की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए सहायक होते है I 
  • मूत्र मार्ग में संक्रमण से बचने हेतु जननांगों की सफाई और स्वच्छता का ध्यान रखना बहुत आवश्यक है I   
  • व्यक्ति को अधिक समय तक मूत्र को रोकने जैसी आदत से बचना चाहिए I 
  • व्यक्ति को शराब व धूम्रपान का अत्यधिक सेवन करने से बचना चाहिए I 
  • व्यक्ति को अपने वजन को स्वस्थ बनायें रखने पर ध्यान देना चाहिए I
  • संभोग के तुरंत बाद मूत्र त्याग तथा गुप्तांग को साफ करना चाहिए I 
  • मासिक धर्म के समय में महिलाओं द्वारा साफ सफाई का अधिक ख्याल रखा जाना चाहिए I

मूत्र सम्बन्धी विकार के लक्षण

मूत्र संबंधी विकार के लक्षणों में शामिल है - 

  • मूत्र त्यागते समय दर्द होना 
  • मूत्र के साथ रक्त का स्त्राव होना 
  • मूत्र त्यागने में कठिनाई होना 
  • मूत्राशय का हर समय भरा हुआ महसूस होना
  • एक कमजोर मूत्र धारा
  • शारीरिक थकावट महसूस होना 
  • बुखार आना
  • पेट के नीचे के हिस्से में दबाव की अनुभूति होना 
  • मूत्र त्यागने की तत्काल आवश्यकता व बार बार मूत्र त्याग की आग्रह होना
  • मूत्र मार्ग में सूजन तथा जलन होना 
  • कमर के ऊपर या पीठ के दोनों तरफ दर्द महसूस होना 
  • मूत्र के रंग में बदलाव व दुर्गन्ध आना 


मूत्र सम्बन्धी विकार के प्रकार

मूत्र सम्बन्धी विकार के निम्नलिखित विभिन्न प्रकार है -

  • मूत्र पथ के संक्रमण (UTI)
  • बिनाइन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लेशिया(BPH)
  • वेरीकोसील
  • हाइड्रोसील
  • प्रोस्टेट कैंसर
  • ब्लैडर कैंसर
  • ब्लैडर प्रोलैप्स
  • रक्तमेह 
  • इंटररिस्टशियल सिस्टाइटिस
  • अतिसक्रिय मूत्राशय
  • प्रोस्टेटाइटिस
  • किडनी स्टोन 
  • टेस्टिक्युलर कैंसर

मूत्र सम्बन्धी विकार की जटिलताएँ 

मूत्र सम्बन्धी किसी भी विकार से पीड़ित व्यक्ति को कई जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है -

  • किडनी के क्षतिग्रस्त होने का भय
  • किडनी विफलता का जोखिम बढ़ना 
  • मूत्र प्रणाली के हिस्सों में असहनीय जलन व दर्द होना 
  • प्रजनन सम्बन्धी समस्याओं की उत्पत्ति होना
  • गर्भवती महिलाओं को अत्यधिक खतरे की आशंका रहना
  • प्रभावित हिस्सों में लम्बे समय तक असहनीय दर्द रहना
  • यौन संचारित रोग होने का खतरा बना रहना

मान्यताएं

क्या कह रहे हैं मरीज

"विभिन्न अध्ययन किए गए हैं जहां जैन गाय मूत्र चिकित्सा ने रोगियों में महत्वपूर्ण सुधार दिखाया है।"