img

पित्ताशय की थैली की बीमारी का इलाज

अवलोकन

पित्ताशय की थैली से संबंधित रोग पित्ताशय की थैली की बीमारी के अंतर्गत आते है l जब कुछ कारणों की वजह से पित्ताशय में सूजन आती है अथवा जब पित्ताशय में संक्रमण होता है और इसकी संरचना, कार्यो तथा पित्त पथ में रुकावटें आती है तो पित्ताशय के प्रभावित होने से जो बीमारियाँ उत्पन्न होती है उन्हें पित्ताशय की थैली की बीमारी कहा जाता है l पित्ताशय की थैली की बीमारी सामान्य से लेकर गंभीर स्थितियों को पैदा करने वाली हो सकती है l पित्ताशय की थैली की बीमारी व्यक्तियों में आम है जिससे अधिकांश लोगों को कठिनाइयाँ आती है l 

अनुसंधान

जैन के गोमूत्र चिकित्सा क्लिनिक का उद्देश्य प्राचीन आयुर्वेदिक ज्ञान को आधुनिक तकनीक के साथ एकीकृत करके एक सुखी और स्वस्थ जीवन बनाना है। हमारी चिकित्सा का अर्थ है आयुर्वेद सहित गोमूत्र व्यक्ति के तीन दोषों पर काम करता है- वात, पित्त और कफ। ये त्रि-ऊर्जा हमारे स्वास्थ्य को बनाए रखती हैं, इन दोषों में कोई भी असंतुलन, मानव स्वास्थ्य और बीमारी के लिए जिम्मेदार है। हमें यह कहते हुए खुशी हो रही है कि हमारे उपचार के तहत हमने इतने सारे सकारात्मक परिणाम देखे हैं। हमारे इलाज के बाद हजारों लोगों को कई बीमारियों से छुटकारा मिला।

हमारे मरीज न केवल अपनी बीमारी को खत्म करते हैं बल्कि हमेशा के लिए एक रोग मुक्त स्वस्थ जीवन जीते हैं। यही कारण है कि लोग हमारी चिकित्सा की ओर ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। आयुर्वेदिक उपचारों में हमारे वर्षों के शोध ने हमें अपनी कार्यप्रणाली को आगे बढ़ाने में मदद की है। हम पूरी दुनिया में एक स्वस्थ और खुशहाल समाज का निर्माण करने के लिए अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य रखते हैं।

गोमूत्र चिकित्सा द्वारा प्रभावी उपचार

गोमूत्र के उपचार के अनुसार, कुछ जड़ी-बूटियां शरीर के दोषों (वात, पित्त और कफ) का कायाकल्प कर सकती हैं और यदि यह दोष शरीर में असमान रूप से वितरित किये जाए, तो यह पित्ताशय की थैली की बीमारी का कारण बन सकता है। कुछ आयुर्वेदिक दवाओं में उनके उपचार के लिए कई लाभकारी तत्व होते हैं। यह शरीर के पाचन तंत्र को बेहतर बनाता है।

जीवन की गुणवत्ता

गोमूत्र के साथ किया गया उपचार अच्छा स्वास्थ्य लाता है और एक क्रम में शरीर के दोषों में संतुलन बनाए रखता है। आज हमारी दवा के अंतिम परिणाम के रूप में मनुष्य लगातार अपने स्वास्थ्य को सुधार रहे हैं। यह उनके दिन-प्रतिदिन के जीवन की स्थिति में सुधार करता है। गोमूत्र के साथ-साथ आयुर्वेदिक दवाएं कई प्रकार की प्रतिक्रियाओं को सीमित करने के लिए एक पूरक उपाय के रूप में काम कर सकती हैं, जो भारी खुराक, मानसिक दबाव, विकिरण और कीमोथेरपी के उपयोग से आती हैं। हम मनुष्यों को सूचित करते हैं कि यदि कोई रोगी है तो उस विकार के साथ एक आनंदमय और चिंता मुक्त जीवन कैसे जिया जाए। हमारे उपाय करने के बाद हजारों मनुष्य एक संतुलित जीवन शैली जीते हैं और यह हमारे लिए एक बड़ी उपलब्धि है कि हम उन्हें एक जीवन प्रदान करें जो वे अपने सपने में देखते हैं।

जटिलता निवारण

गोमूत्र, जिसे अक्सर पित्ताशय की बीमारी के लिए अच्छा माना जाता है, का आयुर्वेद में विशेष स्थान है। हमारे वर्षों के काम से साबित होता है कि हमारे आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ पित्ताशय की थैली रोग के कुछ लक्षण लगभग गायब हो जाते हैं। हमारे रोगियों को दर्द, अपच, अत्यधिक गैस, गहरे रंग का मूत्र और रंग का मल, त्वचा और आंखों का पीलापन और शारीरिक कमजोरी से राहत महसूस हुयी है, शरीर में हार्मोनल और रासायनिक परिवर्तनों में नियंत्रण व संतुलन हुआ है,  इससे रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार होता है जो अन्य पित्ताशय की थैली की जटिलताओं में अनुकूल रूप से काम करता है। 

जीवन प्रत्याशा

अगर हम जीवन प्रत्याशा के बारे में बात कर रहे हैं, तो गोमूत्र उपाय अपने आप में बहुत बड़ी आशा है। कोई भी विकार चाहे छोटे हो या गंभीर चरण में, मानव शरीर पर बुरे प्रभाव के साथ आते है और जीवनभर के लिए मौजूद रहते है। एक बार जब विकार को पहचान लिया जाता है, तो जीवन प्रत्याशा छोटी होने लगती है, लेकिन गोमूत्र चिकित्सा के साथ नहीं। हमारा ऐतिहासिक उपाय ना केवल पूरी तरह से विकार का इलाज करता है बल्कि शरीर में किसी भी विषाक्त पदार्थों को छोड़ने के बिना उस व्यक्ति के जीवन-काल में वृद्धि करता है और यही हमारा अंतिम उद्देश्य है।

दवा निर्भरता को कम करना

"सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामयाः, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद् दुःख भाग्भवेत्", अर्थात सभी को हर्षित होने दें, सभी को रोग मुक्त होने दें, सभी को वास्तविकता देखने दें, किसी को कष्ट न होने दें। हम चाहते हैं कि इस कहावत को अपनाकर हमारी संस्कृति इसी तरह हो। हमारी चिकित्सा कुशल देखभाल प्रदान करके, प्रभावित रोगियों की जीवन प्रत्याशा को बढ़ाने और दवा निर्भरता को कम करके इसे पूरा करती है। इस नए युग में, हमारे उपचार में उपलब्ध किसी भी औषधीय समाधान की तुलना में अधिक लाभ और कम जोखिम हैं।

पुनरावृत्ति की संभावना को कम करना

व्यापक अभ्यास की तुलना में, हम रोग के अंतर्निहित कारण और कारणों पर ध्यान केंद्रित करते हैं जो विशेष रूप से रोग के नियंत्रण पर निर्भर होने के बजाय रोग की पुनरावृत्ति की संभावना को बढ़ा सकते हैं। हम इस दृष्टिकोण को लागू करके और लोगों के जीवन को एक अलग रास्ता प्रदान करके प्रभावी रूप से पुनरावृत्ति की दर कम कर रहे हैं ताकि वे अपने जीवन को मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ तरीके से जी सकें।

पित्ताशय की थैली की बीमारी के कारण

पित्ताशय की थैली की बीमारी को प्रभावित करने वाले कई कारण और जोखिम कारक हो सकते है - 

  • कोलेस्ट्रोल का उच्च स्तर 
  • बढ़ती उम्र तथा लिंग 
  • आनुवांशिकी 
  • मोटापा 
  • गर्भावस्था
  • कुछ दवाइयाँ 
  • असंतुलित आहार 
  • खराब जीवन शैली 
  • सिस्टिक फाइब्रोसिस
  • मधुमेह
  • लिवर की बीमारी
  • सिकल सेल एनीमिया 
  • पित्त पथरी का पारिवारिक इतिहास
  • पुरानी सूजन और संक्रमण 

 

पित्ताशय की थैली बीमारी से निवारण 

पित्ताशय की थैली बीमारी से निवारण में शामिल है - 

  • नियमित भोजन करना 
  • संतुलित वजन रखना 
  • स्वस्थ व संतुलित आहार का सेवन करना 
  • कम वसा वाले भोजन का सेवन करना 
  • कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखना 
  • नियमित व्यायाम, कसरत आदि करना 
  • रक्त में शर्करा के स्तर को बढ़ने से रोकना 
  • गर्भावस्था में महिलाओं को अपना अधिक ध्यान रखना 
  • अत्यधिक मात्रा में पानी का सेवन करना 
  • बढ़ती उम्र में सेहत का खास ख्याल रखा जाना 
  • हार्मोनल असंतुलन करने वाली दवाओं के सेवन से बचना 
  • स्वस्थ व उचित जीवन शैली अपनाना

पित्ताशय की थैली बीमारी के लक्षण 

पित्त की थैली की स्थिति के आधार पर पित्ताशय की थैली विकार के लक्षण व्यक्तियों में भिन्न-भिन्न हो सकते है l सामान्य लक्षणों में शामिल किया जाता है - 

  • पेट के दाहिनी ओर के ऊपरी हिस्से में दर्द रहना 
  • बदहजमी, अपच व अत्यधिक गैस होना 
  • परिपूर्णता महसूस होना 
  • गहरे रंग का मूत्र तथा मिट्टी रंग का मल आना 
  • पित्ताशय में सूजन होना
  • छाती में दर्द होना
  • त्वचा और आँखों का पीला पड़ना 
  • भोजन करने के बाद दर्द का बढ़ जाना 
  • जी मचलाना व उल्टी आना 
  • बुखार आना व ठंड लगना 
  • शारीरिक कमजोरी और थकावट होना 
  • रक्तचाप में गिरावट आना 
  • दिल की धड़कन बढ़ना 


पित्ताशय की थैली बीमारी के प्रकार 

पित्ताशय की थैली विकार में शामिल है - 

  • पुरानी पित्ताशय की थैली रोग 
  • पित्ताशय की पथरी 
  • संक्रमित पित्ताशय की थैली ( कोलेसिस्टिटिस) 
  • स्केलजिंग हैजांगाइटिस
  • पित्ताशय का कैंसर 
  • गैंग्रीन 
  • पित्ताशय थैली के ऊतकों में वृद्धि 
  • पित्ताशय की थैली और पित्त नलिकाओं के ट्यूमर 
  • पित्तनली में पथरियाँ 
  • पित्त संबंधी पेचिश
  • पित्ताशय की थैली पोलिप्स

पित्ताशय की थैली बीमारी की जटिलताएँ 

पित्ताशय की थैली बीमारी से पीड़ित व्यक्तियों को निम्नलिखित जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है -

  • अग्नाशय में सूजन आना 
  • पित्ताशय की गैंग्रीन होना 
  • आंत्र में रुकावट आना 
  • नींद की कमी होना 
  • असहनीय दर्द झेलना 
  • पित्ताशय में सूजन आना 
  • पुरानी दस्त की समस्या 
  • पित्ताशय की थैली का क्षतिग्रस्त होना 
  • रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुँचना 
  • दिल की समस्या उत्पन्न होना

विभिन्न प्रकार के पित्ताशय की थैली की बीमारी

मान्यताएं

क्या कह रहे हैं मरीज

"विभिन्न अध्ययन किए गए हैं जहां जैन गाय मूत्र चिकित्सा ने रोगियों में महत्वपूर्ण सुधार दिखाया है।"